स्व अनुभूत संतान प्राप्ति प्रयोग :

स्व अनुभूत संतान प्राप्ति प्रयोग :
 
आज कल बहुत सी हमारी मातायेँ , बहनेँ गर्भपात (असमय गर्भ क्षीण हो जाना ) की समस्या से पीडित रहती हैँ जिसके चलते कुछ का तो वंश ही नही चल पाता इस समस्या के निवारण के लिए अनुभूत चमत्कारी प्रयोग दे रहे हैँ ।
 
मंत्र:- ॐनमो आदेश गुरू का हनुमन्त वीर । गम्भीर धूजे धरती बँधावे धीर । बाँध बाँध हनुमन्ता वीर मास एक बाँधू । मास दोइ बाँधू , मास तीन बाँधू । मास चार बाँधू , मास पाँच बाँधू , मास छः बाँधू । मास सात बाँधू , मास आठ बाँधू , मास नौ बाँधू । “अमुकी” गर्भ गिरे नहीँ । ठाँह को ठाँह रहे , ठाँह का ठाँह न रहे । मेरा बाँधा बंध छटे तो ईश्वर महादेव गोरखनाथ । जती हनुमन्त वीर लाजेँ मेरी भक्ति गुरू की शक्ति । फुरो मंत्र ईश्वरो वाचा ।।
 
विधि - काले धागे मेँ 9 गाँठ मंत्र पढकर लगावेँ और 9-9 बार धूप दीप दिखाकर गर्भवति की कमर मेँ बाँधे स्वयं सिद्ध है ।
 
विशेष - मंगलवार हनुमान जी को चोला अवश्य चढवायेँ ।।
 
 

ज्योतिर्विद् पं. प्रदीप कुमार

सम्पर्क: मो. 9438741641 {Call / Whatsapp}

Website : http://www.srimaakamakhya.com

जय माँ कामाख्या

Leave a Reply